कोरोना महामारी के कारण स्कूलों की फीस का फर्स्ट क्वाटर पूरा माफ हो-संयुक्त अभिभावक समिति

पत्रकार श्री राहुल भारद्वाज की रिपोर्ट

महामारी के दौरान निजी स्कूलों की मनमानी के विरोध में संयुक्त अभिभावक समिति के तत्वावधान में प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन

जयपुर
कोरोना महामारी के कारण निजी स्कूलों द्वारा की जा रही फीस वसूली और राजस्थान सरकार की तानाशाही शिक्षा नीतियों व सरकार द्वारा अभिभावकों के प्रति बरती जा रही उदासीनता के विरोध में संयुक्त अभिभावक समिति के तत्वावधान में सोमवार दोपहर को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया । इस दौरान संयुक्त अभिभावक समिति के प्रवक्ता ईशान शर्मा ने कहा कि देश कोविड 19 महामारी से लड़ रहा है इसे मिटाने के लिए प्रयासरत है जनता भी अतिआवश्यक कार्य होने पर ही घरों से बाहर निकल रही है, लोगों के रोजगार धंधे ठप पड़े है फिर भी ऐसे विपत्ति काल में राज्य सरकार विधार्थियों व अभिभावकों के साथ दोहरे मापदंड अपनाकर भेदभाव कर रही है जहां एक तरफ सरकार द्वारा सोशल डिस्टेसिंग की पालना करवाई जा रही है वहीं दूसरी तरफ स्कूल खोलने की बात कर रही है । हमारे आने वाले भविष्य व देश की उन्नति की राह दिखाने वाले विधार्थियों पर सियासत की जा रही है ।
ईशान शर्मा ने कहा कि इन विकट परिस्थितियों को देखते हुए कई सामाजिक व राष्ट्रीय सन्गठन एकमत व एकजुट होकर अभिभावकों के साथ खड़े हैं ।
प्रवक्ता शर्मा ने कहा कि सरकार के समक्ष हमारी ये मांगे है कि
1. जब तक कोरोना का सुलभ व सुचारू रूप से इलाज नहीं आ जाता है तब तक स्कूल नहीं खुलने चाहिए ।हमारे बच्चे देश के भविष्य के है न कि कोई टेस्टिंग किट है ।
2. कोरोना महामारी के कारण स्कूलों की फीस का फर्स्ट क्वाटर पूरा माफ होना चाहिए क्योकि इस दौरान न तो कोई ऑनलाइन क्लासेज शुरू हुई थी और न ही कोई सिलेबस डिसाइड हुआ था ।
3. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन क्लासेज कई स्कूलों द्वारा जुलाई से शुरू की गई थी तो केवल शेष तीन क्वाटर की फीस ही मान्य होनी चाहिए वह भी ट्यूशन फीस के 25 प्रतिशत से ज्यादा न हो ।
4. जो छात्र या अभिभावक ऑनलाइन क्लास नहीं ले रहे है उनकी फीस पूरी माफ होनी चाहिए ।
5. इस सत्र में किसी भी बच्चे का फीस न दे पाने के कारण या ऑनलाइन क्लास ना ले पाने के कारण कोई भी स्कूल उस बच्चे का नाम न काटे इस बात का उचित ध्यान रखा जाना चाहिए । यदि किसी स्कूल द्वारा किसी बच्चे का इस वजह से नाम काटा जाए तो सरकार तुरंत प्रभाव से उस स्कूल की मान्यता रदद् करे ।
इस दौरान अंतर्राष्ट्रीय ब्राह्मण महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष पंकज जोशी व श्री परशुराम सेना के अध्यक्ष एडवोकेट अनिल चतुर्वेदी, नायक सेना अध्यक्ष दिलीप नायक ने सरकार को चेताया कि हम अभिभावकों से ही सरकारें बनती है, सौतेला व्यवहार कदापि बर्दाश्त नहीं किंया जाएगा । उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि सरकार हमारी मांगे नही मानती है तो एक निर्णायक आंदोलन के लिए तैयार रहे ।अभिभावक इस बार आर पार के संघर्ष के लिए तैयार है । श्री राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष दौलत सिंह चिंचडौली ने भी सरकार को चेतावनी दी है कि यदि आगामी 15 दिवस में सरकार हमारी मांगे नही मानती है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा तथा मुख्यमंत्री आवास का घेराव किया जाएगा ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!