कोरोना काल में इंदौर चातुर्मास बना विश्व के लिए वरदान – राष्ट्र संत ललितप्रभ

वीरधरा न्यूज़। इंदौर @ डेस्क।
संतों ने किया जोधपुर के लिए पद विहार
इंदौर 10 दिसंबर राष्ट्र संत ललित प्रभ सागर जी महाराज और डॉ. मुनि शांतिप्रिय सागर जी महाराज ने इंदौर में अपना ऐतिहासिक प्रवास और चातुर्मास पूर्ण कर जोधपुर के लिए पद विहार किया। उन्होंंने महावीर बाग में धर्म संघ को महा मांगलिक देकर रिंकारगिरी तीर्थ की ओर विहार किया जहां समस्त गुरु भक्तों ने संतों की जयकारे लगाते हुए अगवानी की।
श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए संत श्री ने कहा कि कोरोना काल में इंदौर चातुर्मास और प्रवास पूरे विश्व के लिए वरदान बना। चातुर्मास में आयोजित प्रवचनों का चैनल और सोशल मीडिया के माध्यम से लाइव प्रसारण हुआ जिससे ना केवल इंदौर वरन देश और विदेश के लाखों लोग प्रतिदिन लाभान्वित हुए, परिवारों में प्रेम और मिठास बढ़ा, युवाओं में बड़ों के प्रति सम्मान भाव जगा, उनके आत्मविश्वास में बढ़ोतरी हुई, लोगों को धार्मिक और आध्यात्मिक विकास करने के सरल गुर प्राप्त हुए। उन्होंने कहा कि श्री जैन श्वेतांबर खरतरगच्छ श्री संघ ने ऐसा अद्वितीय चातुर्मास करके करवा के जो लाभ लिया है वह लोगों को कई वर्षों तक याद रहेगा। श्री संघ के लोगों का परस्पर प्रेम सद्भाव और सकारात्मकता हमें सदा याद रहेगी। उन्होंने कहा कि हम तन से भले ही जा रहे हैं और मन से आप लोगों के पास ही रहेंगे और आपको उजालों का रास्ता देते रहेंगे। विहार में जैन समाज अग्रवाल समाज महेश्वरी समाज आदि अनेक समाज से लोग सम्मिलित हुए।


संघ अध्यक्ष धर्मेंद्र मेहता ने बताया कि संत प्रवर बदनावर रतलाम जावरा मंदसौर नीमच निंबाहेड़ा चित्तौड़गढ़ भीलवाड़ा ब्यावर होते हुए जनवरी के प्रथम सप्ताह में जोधपुर पहुंचेंगे।