सरपंच और सचिव डकार गए पंचायत भवन के पैसे, खुद का घर बनाया, अब खुले में ही करनी पड़ रही बैठके।

वीरधरा न्यूज़। उज्जैन @ श्री जगदीश परमार
उज्जैन।ग्रामीणों ने विश्वास कर सरपंच श्यामू भाई को जिताया था की ग्राम का विकास करेगी, लेकिन उसके विपरीत ही विकास हुआ सरपंच पति राधेश्याम और सचिव भेरू लाल प्रजापत पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उज्जैन कलेक्टर आशीष सिंह को शिकायत की।
पंचायत भवन निर्माण के लिए जो राशि स्वीकृत की गई थी उस राशि का दुरुपयोग कर सरपंच पति ने अपना घर बना लिया।
आज पंचायत भवन नहीं बनने पर जो भी मीटिंग होती है खुले स्थान पर पेड़ों के नीचे की जाती है इस गांव की दुर्दशा कर दी सरपंच पति और सचिव ने।
शिकायतकर्ता खाचरोद स्थित ग्राम बटलावदी निवासी मुकेश पिता अमर सिंह यादव पंच का पति है ।
और शिकायत की है इन राशियों का गबन सरपंच पति और सचिव ने मिलकर किया है।
सर्वप्रथम पूर्व सांसद चिंतामणि मालवीय ने ग्राम मैं चबूतरा निर्माण के लिए ₹100000 पंचायत को दिए थे आज तक चबूतरा नहीं बनाया लेकिन राशि मिल गई।
आंगनवाड़ी भवन जर्जर प्राथमिक भवन बिना अनुमति तोड़कर सभी सामान बेच दिया।
पंचायत खाते में रुपए आने पर भी पानी की टंकी अधूरी पड़ी सरपंच का झूठ शासन ने रुपए नहीं दिए।
पीएम आवास का लाभ दिलाने के नाम पर ग्रामीणों से लाखों वसूली की गई।
केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने सामुदायिक भवन के लिए राशि दीक्षित अभी तक नहीं बनी दीवार जर्जर हो रही है कभी भी किसी भी प्रकार का बड़ा हादसा हो सकता है।
शिकायतकर्ता ने यह भी बताया गांव का विकास नहीं हो पा रहा सरपंच 5 वर्ष पहले कच्चे मकान में रहता था लेकिन अब आलीशान मकान बना लिया शिकायतों के बाद भी सरपंच और सचिव की जांच नहीं हुई क्षेत्रीय अधिकारी की मिलीभगत से सरपंच और सचिव दोनों के ऊपर शिकायत के बाद भी जांच नहीं हुई और ना ही उसके ऊपर कारवाई भी साफ साफ शब्दों में शिकायतकर्ता ने बताया है क्षेत्र के सभी अधिकारी द्वारा सरपंच और सचिव को बचाया जा रहा है।
इसी के चलते शिकायतकर्ता उज्जैन पहुंचकर जिला कलेक्टर से गुहार लगाई है।

Don`t copy text!