राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के दो घंटे पहले पेपर उपलब्ध करवाने का झांसा देकर मांगे छह लाख, कोचिंग संचालक गिरफ्तार

जयपुर
पुलिस की गिरफ्त में कोचिंग संचालक राजेन्द्र प्रसाद मीणा। उसने कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर समय से दो घण्टे पहले उपलब्ध करवाने व भर्ती करवाने के रूप में 6 लाख रूपये में डील की।
आईटीबीपी से बर्खास्तगी के बाद कोंचिंग खोलकर बेरोजगारों को ठगने लगा
जयपुर ग्रामीण जिले की स्पेशल टीम व थाना विराट नगर पुलिस ने की कार्रवाई
राजस्थान पुलिस में कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के दो घंटे पहले ही मोटी रकम लेकर पेपर उपलब्ध करवाने वाले एक शातिर ठग को पुलिस ने सोमवार रात को गिरफ्तार कर लिया। यह कार्रवाई जयपुर ग्रामीण जिले की स्पेशल टीम ने विराट नगर थाना पुलिस के साथ मिलकर की है। गिरफ्तार आरोपी राजेन्द्र प्रसाद मीणा बेरोजगार युवकों को नौकरी लगवाने का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के सदस्य है। पूछताछ में भर्ती के सम्बन्ध में कई राज खुलने की संभावना है।

आईटीबीपी से बर्खास्त होने के बाद कोचिंग खोली, फिर नौकरी का झांसा देकर ठगी

जयपुर ग्रामीण एसपी शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार राजेन्द्र मीणा ने विराट नगर इलाके के मैड गांव में पुलिस व पैरा मिलिट्री फोर्सेज की परीक्षा की तैयारी के लिए नेशनल डिफेंस एकेडमी नाम से कोचिंग संस्थान खोल रखा है। वह आईटीबीपी से बर्खास्त होने के बाद गांव आया। फिर कोचिंग खोलकर ट्रेनिंग का काम करने लगा। रविवार को शाहपुरा निवासी सौरभ मीणा ने विराट नगर थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।

आईटीबीपी से बर्खास्तगी के बाद राजेंद्र मीणा ने गांव में आकर कोचिंग खोली। यहां बेरोजगार से ठगी करने लगा।
दो घंटे पहले पेपर उपलब्ध करवाने का झांसा देकर 6 लाख रुपए मांगे

पीड़ित ने बताया की 28 अक्टूबर को वह दोस्त के साथ कांस्टेबल भर्ती की तैयारी के लिए कोचिंग संस्थान गया था। वहां कोचिंग संचालक राजेन्द्र प्रसाद मीणा ने उसे कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर समय से दो घण्टे पहले उपलब्ध करवाने व भर्ती करवाने के रूप में 6 लाख रूपये में डील की। उसने एडवांस में 1.20 लाख लिए। बाकी 1.50 लाख रूपये पेपर देते वक्त व 3 लाख रुपये सलेक्शन के उपरान्त देना तय हुआ। ठगी का अहसास होने पर मुकदमा दर्ज कराया।

जयपुर रेंज आईजी एस. सेंगाथिर ने बताया कि आगामी पुलिस कांस्टेबल भर्ती को ध्यान मे रखते हुये युवाओं को नौकरी दिलवाने का झांसा देकर ठगी करने वालों पर विशेष निगरानी रखने व आसूचना संकलन कर कार्रवाई करने के लिए डीएसटी प्रभारी उप निरीक्षक हेमराज मीणा को निर्देश दिये गये थे। जिनकी सूचना पर डीएसटी टीम व थानाधिकारी विराट नगर राजेन्द्र सिंह राठौड़ के नेतृत्व मे एसआई धर्मेंद्र कुमार व टीम ने यह कार्रवाई की।

Don`t copy text!