सिक्यूरिटी गार्ड बनकर पहुंची पुलिस, फ्लैट में चार सटोरियों को 27 मोबाइल और 1.60 करोड़ के हिसाब के साथ किया गिरफ्तार।

 

  • जयपुर।
    जयपुर कमिश्नरेट में पश्चिम जिले में हरमाड़ा थाना पुलिस की कार्रवाई
    27 मोबाइल फोन और 1.60 करोड़ रुपयों के सटेक्ट का हिसाब बरामद
    सीकर रोड पर बड़पपली के पास गुरुश अपार्टमेंट अपार्टमेंट में किराए पर लिया गया। फ्लैट
    शहर में आईपीएल क्रिकेट मैच पर एक और सट्ठा कारोबार चलाने वाले गैंग का खुलासा हुआ है। मामले में हरमाड़ा थाना पुलिस ने कार्रवाई करते हुए चार सटोरियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके कब्जे से लगभग 27 मोबाइल फोन, एक लेफ्ट, वाइस रिकार्डर, पावर केबल सहित कई अन्य इलेक्ट्रोनिक उपकरण बरामद किए गए हैं। इसके अलावा लगभग 1 करोड़ 60 लाख रुपयों के सट्हटे के हिसाब बच गया है, जो कि दो रजिस्टर में दर्ज किया गया था।

डीसीपी वेस्ट प्रदीप मोहन शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी हिमांशु शर्मा, दिनेश शर्मा, राहुल सैनी है। ये तीनों सीकर जिले में गांव सबलपुरा और पुष्प नगर श्री माधोपुर के रहने वाले है। इन तीनों की उम्र करीब 28 से 32 वर्ष के बीच है। इसके अलावा चौथा गिरफ्तार आरोपी शहजाद हुसैन निवासी वार्ड नंबर 12, रावण गेट चौमूं का है। ये लोग सितंबर माह से आईपीएल क्रिकेट मैच पर सट्‌टा लगा रहे है। ये चारों 17 अक्टूबर को ही हरमाड़ा इलाके में बड़ पीपली सीकर रोड पर स्थित गुरुशिखर शेखावाटी बहुमंजिला बिल्डिंग की 10 वीं मंजिल पर स्थित एक फ्लैट किराए पर लेकर क्रिकेट सट्‌टा चला रहे थे।

बिल्डिंग के दूसरे गेट से सिक्यूरिटी गार्ड बनकर पहुंची पुलिस, फिर दबिश देकर पकड़ा

एडिशनल डीसीपी बजरंग सिंह शेखावत ने बताया कि सबसे ऊपरी मंजिल पर फ्लैट होने की वजह से ये लोग आसानी से बिल्डिंग में आने – जाने वालों पर नजर रखते थे। हरमाड़ा थानाप्रभारी रविंद्र प्रताप सिंह को देर रात सूचना मिली थी कि इस फ्लैट में सट्‌टा चल रहा है। ऐसे में पुलिस ने बिल्डिंग के मुख्य गेट से प्रवेश करने की बजाए पिछले हिस्से से प्रवेश किया। इसके बाद मुखबिर की सूचना के आधार पर 10 मंजिल पर फ्लैट तक पहुंच गई। यहां पुलिसकर्मी ने सिक्यूरिटी गार्ड बनकर आवाज लगाई। इससे सटोरियों को भनक नहीं लगी। उन्होंने फ्लैट का दरवाजा खोल दिया। इससे पुलिस ने चारों सटोरियों को काबू में कर लिया।

मास्टर मोबाइल फोन में ताज 777 एप के जरिए लगाते है सट्‌टे का भाव

चौमूं एसीपी राजेंद्र सिंह निर्वाण के मुताबिक फ्लैट में छानबीन में सामने आया कि ये लोग एक मास्टर मोबाइल में डाउनलोड एप ताज 777 से जरिए क्रिकेट सट्‌टा लगा रहे थे। जिस पर भाव चालू था। इसके अलावा विशेष तरीके से एक अटैची में लगा रखे मोबाइल फोन के जरिए ऑनलाइन लाइन देखकर ग्राहकों से सट्टा लगवा रहे थे। ये लोग पहले चौमूं में सट्‌टा लगा रहे थे। पुलिस से बचने के चक्कर में इलाका बदलकर सट्टा लगाते है।

सीकर व जयपुर में दो सटोरियों के खिलाफ पहले भी केस दर्ज है

इन आरोपों के कब्जे से दो लक्जरी गाड़ियां भी दूर की हैं। उनके मोबाइल फोन में रखा गया फर्जी सिम कार्ड मिला है। इनमें आरोपी दिनेश शर्मा के खिलाफ सीकर के सदर व कोतवाली थाने में तीन और जयपुर के हरमाड़ा में फांसी का एक मुकदमा दर्ज है। इसके अलावा शहजाद हुसैन के खिलाफ चौमूं और हरमाड़ा में धोखाधड़ी व सट्-क का मुकदमा दर्ज है। इस क्रिया में हैडकांस्टेबल झाबरमल, कांस्टेबल रामसिंह, कांस्टेबल दयाराम, कांस्टेबल भजनाराम वसीडीपी वेस्ट कार्यालय के कांस्टेबल दिनेश कुमार ने अहम रोल प्लेया।

Don`t copy text!