विधायक को मिली धमकी, ऑडियो हुआ वायरल कहा धरती पर आज या तो में रहूंगा या आप

वीरधरा न्यूज़। चित्तौड़गढ़ @ श्री दुर्गेश लक्षकार
चित्तौड़गढ़ जिले की भूपालसागर पंचायत समिति में प्रधान पद को लेकर भारतीय जनता पार्टी के अपने ही नेताओं के बीच में विवाद हो गया है। इसका एक ऑडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। भूपालसागर पंचायत समिति से भाजपा मंडल अध्यक्ष और वार्ड नम्बर 4 से जीते विष्णु जोशी के पुत्र अशोक जोशी ने कपासन के क्षेत्रीय विधायक अर्जुनलाल जीनगर को धमकी दी, जिसका ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। लेकिन किसी भी तरह से वीरधरा न्यूज़ वायरल हुए इस ऑडियो की पुष्टि नहीं करता है। वायरल ऑडियो में अशोक जोशी ने विधायक को धमकी तक दे डाली अशोक जोशी इस वाइरल ऑडियो में यह कहते हुए सुनाई दे रहा है कि अगर विष्णु जोशी प्रधान नहीं बना तो साहब धरती पर अगर जीवित रहना है यो विष्णु प्रधान चाहिए ये बात याद रखना इससे ज्यादा कुछ नही कह रहा हु मैं, आपको अगर अगला विधायक और मंत्री बनना है तो विष्णु प्रधान बनेगा ये बात याद रखना संघ से फोन कराया मैंने उसकी बात टाल रहे हो आप विधायक नही बनना क्या आपको अगली बार, मैंने फोन करवाया रात को आप उनकी बात नही रख रहे हो भाई साहब, जिस पर विधायक ने कहा-अरे उठे पक्ष में भी तो छावे सब मनक थु हमझ ही न रियो म्हारी बात ने, फिर अशोक जोशी ने कहा -अरे भई साहब मने सब हमझ में आवे आन बणा दो प्रधान सब जणा वाने देखा, आओ पधारो।
आपको बता दें कि विष्णु जोशी भाजपा के भूपालसागर मंडल अध्यक्ष हैं और वार्ड नंबर 4 से पंचायत समिति सदस्य पद पर चुनाव जीतकर आये है।सूत्रों की माने तो भूपालसागर प्रधान पद को लेकर दोनों ही दलों में भारी घमासान शुरू हुआ था। आरओ के अनुसार 10 बजे भाजपा से हेमेंद्र सिंह राणावत ने नामांकन दाखिल किया तो भाजपा के मंडल अध्यक्ष विष्णु जोशी ने निर्दलीय नामांकन तक भर डाला समझा जा रहा था कि भाजपा के अधिकांश सदस्य मंडल अध्यक्ष विष्णु जोशी के पक्ष में है। वहीं, कांग्रेस से मुकेश गाडरी ने नामांकन दाखिल किया था। सत्यनारायण अहीर ने भी निर्दलीय के रूप में नामांकन दाखिल किया था। भाजपा से हेमेंद्र सिंह राणावत कांग्रेस से मुकेश गाडरी तथा निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में सतनारायण अहिर एवं विष्णु जोशी को सिंबोल प्रदान किए गए थे। हेमेंद्र सिंह राणावत को 9 जबकि निर्दलीय प्रत्याशी विष्णु जोशी को 6 मत मिले। 4 सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी जीते लेकिन कांग्रेस के एक भी सदस्य ने अपनी पार्टी के प्रत्याशी को वोट नहीं दिया।