फीस माफी के मुद्दे पर हाईकोर्ट में टली सुनवाई ,राज्य सरकार व अन्य की अपील पर अब 7 दिसम्बर को होगी सुनवाई

वीरधरा न्यूज़। जयपुर @ श्री राहुल भारद्वाज.

जयपुर । निजी स्कूलों की ओर से फीस वसूली के मुद्दे पर आज शनिवार को होने वाली सुनवाई राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा फिलहाल टाल दी गई है ।
गौरतलब है कि फीस माफी के मुद्दे पर दायर याचिका में राज्य सरकार व शिक्षकों सहित अन्य की अपील पर आज सुनवाई होनी थी जिससे न्यायालय ने फिलहाल टालते हुए अब सोमवार 7 दिसम्बर की तारीख सुनवाई के लिए नियत की है ।
उक्त प्रकरण में सेंट्रल एकेडमी स्कूल, अम्बाबाड़ी के अध्यापक अविनाश राजोरा की तरफ से भी अधिवक्ता पूनमचंद भंडारी ने पक्षकार बनने का प्रार्थना पत्र पेश किया है और अतिरिक्त महाधिवक्ता महर्षि को उसकी नक़ल दी गई। प्रार्थना पत्र में कहा गया है कि स्कूलों ने 75 प्रतिशत अध्यापक/अध्यापिकाओं व स्टाफ को नौकरी से निकाल दिया है और उनके परिवार बर्बाद हो रहे हैं। याचिकाकर्ता अविनाश को भी केवल दो माह का आधा वेतन दिया गया है और उसके बाद करीब 35 अध्यापक/अध्यापिकाओं व स्टाफ को नौकरी से हटा दिया गया है। प्रार्थी 7 वर्ष से स्कूल में कार्यरत है और उन्होंने बताया कि स्कूल में बच्चों से दबाव डाल कर फीस वसुली की जा रही है और ऑनलाइन पढाई जारी है पर स्कूलों द्वारा बहाना बना कर लोगों को नौकरी से हटाया जा रहा है। प्रत्येक स्कूल ने आधे से ज्यादा टीचर्स व स्टाफ को नौकरी से हटा दिया है और तन्खवाहें आधी कर दी हैं और काम चार गुणा करवाया जा रहा है जिससे शिक्षक काफी डिप्रेशन में हैं।
चूंकि न्यायालय में शिक्षकों का पक्ष रखने वाला कोई नहीं है इसलिए याचिका के माध्यम से न्यायालय से यह आग्रह किया गया है कि शिक्षकों का पक्ष भी सुना जाय और उन्हें भी इस मामले में पक्षकार बनाया जाय ।इधर अभिभावक सन्गठनो की और से भी फीस माफी के लिए लगातार आंदोलन कर सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है । अतः हाईकोर्ट के आगामी निर्णय का सभी को इंतजार है ।