नागौर/ नवासिटी-पत्रकार सुरक्षा को लेकर मंथन,आज के समय में पत्रकारिता चुनौतीपूर्ण संघर्ष-राठौड़

 

वीरधरा न्यूज़।नवासिटी@ श्री मनोज गंगवाल।

नावासिटी। जिला स्तरीय पत्रकार सम्मेलन बी आर मिर्धा महाविद्यालय में एक दिवसीय पत्रकार अधिवेशन का समापन हुआ। इस कार्यक्रम में आई एफ डब्ल्यू जे संगठन के प्रदेशाध्यक्ष उपेंद्र सिंह राठौड़ व पदाधिकारीगण ने शिरकत की।
इस मौके पर आई एफ डब्ल्यू जे के प्रदेशाध्यक्ष उपेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा कि आज के दौर में पत्रकारिता क्षेत्र चुनौतियों भरा एवं संघर्षपूर्ण है। पत्रकारों के लिए पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की सख्त जरूरत है।
तभी पत्रकार निर्भय होकर काम कर पाएंगे। यह विचार नागौर जिला स्तरीय पत्रकार सम्मेलन में रविवार को राजकीय महाविद्यालय परिसर में उपस्थित जिले भर के पत्रकार साथियों को संबोधित करने के दौरान प्रदेशाध्यक्ष राठौड़ रखें।
संगठन के अजमेर संभाग प्रभारी मनवीर सिंह चुंडावत ने पत्रकारिता के क्षेत्र में वर्तमान स्थिति एवं चुनौतियों को रेखांकित करते हुए कहा कि पग-पग पर पत्रकार को उन स्थितियों से जुझना पड़ता है जो उनके लिए अकल्पनीय है, अपने खोजी पत्रकारिता के अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि यदि आप सही मायनों में निष्पक्ष और निर्भीक होकर पत्रकारिता करने का जज्बा रखते हैं तो संगठन और संगठित भाव के बिना यह संभव नहीं है।
नागौर जिला अध्यक्ष लोकेश श्रीवास्तव ने स्वागत उद्बोधन दिया और सम्मेलन में उपस्थित अतिथियों एवं पत्रकारों को कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी प्रदान की।
इस मौके पर कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में नागौर विधायक मोहन राम चौधरी, तथा कार्यक्रम की अध्यक्षता युवा समाजसेवी राघवेंद्र मिर्धा द्वारा की गई। नागौर डिप्टी विनोद कुमार सींपा, वरिष्ठ पत्रकार देवी सिंह राजपुरोहित चंपाखेडी , राजस्थान उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता फाल्गुन बुच , नागौर जिला परिषद की महापौर नितु बोथरा , संगठन के प्रदेशाध्यक्ष उपेंद्र सिंह राठौड़, अजमेर संभाग प्रभारी मनवीर सिंह चुंडावत विशिष्ट अतिथि के रूप में कार्यक्रम में उपस्थित रहे।
कार्यक्रम का शुभारंभ
मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर कीया गया।
इस मौके पर नागौर विधायक मोहन राम चोधरी ने कहा कि आज के युग में पत्रकारों को पत्रकारिता क्षेत्र में चुनौतीपूर्ण संघर्ष है। कार्यक्रम के दौरान नागौर डिप्टी विनोद कुमार ने कहा कि पत्रकार व पुलिस प्रशासन का हमेशा अच्छा तालमेल बना रहा है।
उन्होंने कहा कि पत्रकारिता क्षेत्र में सही शब्दों का चयन करें। किसी बात को सही तरीके से तोड़ मरोड़ कर प्रकाशित नहीं करके समाज में अच्छी पत्रकारिता करने की बात कही। उन्होंने कहा कि प्रेस नोट के अनुसार पत्रकारिता कोई मायने नहीं रखती। इसलिए पत्रकार अपनी शैली में ही सही पत्रकारिता करे तो वह अपना विशेष स्थान बना पाएगा।
इस मौके पर समाजसेवी राघवेंद्र मिर्धा ने कहां कि एक समय था जब पत्रकारिता क्षेत्र में काम करना बहुत टेढ़ा मामला था। ग्रामीण इलाकों के पत्रकारों को उनके क्षेत्र में काफी परेशानी हो रही हैं। मिर्धा ने भी पत्रकार सुरक्षा का जिक्र किया। उन्होंने भरोसा दिलाते हुए कहा कि इसके लिए राज्य सरकार से मांग करेंगे तथा पूरा प्रयास रहेगा। मंच का संचालन सद्दाम हुसैन ने किया।
कार्यक्रम के समापन के दौरान सभी उपखंड अध्यक्षों ने धन्यवाद ज्ञापित किया। मौके पर संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार रमेश जैन, डॉ के आर गोदारा, डॉ मोइनुल हक, बलवीर खुडखुड़िया, संगठन के मेड़ता अध्यक्ष रामेश्वर सोनी, खींवसर अध्यक्ष कमल किशोर तंवर, मूंडवा अंदाराम बिश्नोई, लाडनू जगदीश यायावर, डेगाना जीआर मुंडेल, कुचामन विमल पारीक, डीडवाना कृष्ण मुरारी,परबतसर सुरेंद्र कुमार पारीक, मकराना विनय सोनी, नावा हितेश रारा मारोठ, जायल महेंद्र शर्मा, नावा से मनोज गंगवाल,मूकेश मिश्रा, गोपाल कुमावत सहित जिले भर के 175 पत्रकार बंधुओं ने भाग लिया।

Don`t copy text!