चित्तौड़गढ़ जिले में बदलेगी खेती की तस्वीर जनप्रतिनिधि, किसान और अधिकारी आए एक मंच पर।

वीरधरा न्यूज़।चित्तौड़गढ़@डेस्क।
चित्तौडगढ़। मुख्यमंत्री महोदय द्वारा ‘समृद्ध किसान-खुशहाल राजस्थान’ की सोच के साथ वर्ष 2022-23 में प्रदेश का प्रथम कृषि बजट पेश किया गया, जिसमें कृषि, उद्यान, कृषि विपणन, ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज, जल संसाधन, ऊर्जा, सहकारिता, पशुपालन एवं जनजाति क्षेत्रीय विकास विभागों की गतिविधियों को शामिल किया गया है।
बजट घोषणाओं के प्रभावी क्रियान्वन एवं जन-जन तक प्रचार प्रसार के उद्देश्य से मंगलवार को जिला स्तरीय कृषि बजट आमुखीकरण कार्यशाला का आयोजन जिला कलक्टर श्री अरविन्द कुमार पोसवाल की अध्यक्षता में जिला परिषद सभागार में किया गया जिसमें सम्बन्धित विभागों के 52 अधिकारियो एवं कर्मचारियों, 9 जन प्रतिनिधियों एवं 22 प्रगतिशील किसानों ने भाग लिया।
कार्यशाला में कृषि आयुक्तालय से गजानन्द यादव, संयुक्त निदेशक (गुण नियंत्रण) ने राज्य स्तरीय कृषि बजट एवं कृषि के 11 मिशन की विस्तृत जानकारी प्रदान की।
कृषि बजट आमुखीकरण कार्यशाला में सुरेन्द्र सिंह जाडावत, अध्यक्ष, राजस्थान राज्य धरोहर संरक्षण एवं प्रोन्नति प्राधिकरण के द्वारा राज्य सरकार के प्रथम बार कृषि बजट को पृथक रूप से प्रस्तुत करने के संबंध में और उसके प्रावधानों को विस्तृत रूप से अवगत कराया।
सांसद सी. पी. जोशी द्वारा सरकार की योजनाओं को कृषकों को प्रभावी ढंग से क्रियानवयन करवाने हेतु निर्देश दिए उन्होनें उर्वरकों की मांग एवं उपलब्धता के बारे में योजना तैयार करने हेतु निर्देशित किया।
जिला प्रमुख डॉ. सुरेश धाकड़ ने जैविक खेती को प्रोत्साहित करने हेतु सुझाव दिये एवं जिले के कृषकों को भ्रमण व प्रशिक्षण के माध्यम से जैविक खेती को अपनाने हेतु विभाग को निर्देशित किया।
जिला कलक्टर अरविन्द कुमार पोसवाल ने कृषि बजट अन्तर्गत सम्मिलित योजनाओं का लाभ आमजन तक पहुंचाने के निर्देश प्रदान किये।
उप निदेशक कृषि (विस्तार) शिवराज जांगिड द्वारा चित्तौडगढ़ जिले में चल रही समस्त कृषि योजनाओं एवं उनकी प्रगति के बारे में कार्यशाला में प्रस्तुतीकरण किया गया।

Don`t copy text!