पार्षद व उसके परिवार ने पेड़ से बांधकर मारपीट की, पत्नी ने पति व ससुराल वालों पर कार्यवाही के लिए जिला कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन।

वीरधरा न्यूज़।चित्तौड़गढ़@दुर्गेश लक्षकार।

चित्तौड़गढ़। हाल ही में कॉलोनी वासियों के साथ दबंगाई कर मारपीट गाली-गलौज के मामले से गिरे गांधीनगर के कांग्रेस पार्षद सुमित मीणा ओर उसके परिवार वालो पर फिर पार्षद की पत्नी ने ही गंभीर आरोप लगाते हुए जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंप न्याय की गुहार लगाई।
प्रार्थिया काजल पत्नी सुमित मीणा निवासी हाल मुकाम प्रतापनगर ने जिला कलेक्टर को सौंपे ज्ञापन में बताया कि मेरे पति को मुझे व मेरे डेढ़ वर्ष के पुत्र गीतांश मीणा को साथ रखने हेतु पाबंद किया ओर जावे मेरे ससुराल वालों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जावे।
प्रार्थिया ने ज्ञापन में बताया कि सुमित से मेरा विवाह सामाजिक रीति रिवाज के साथ हुआ व हमारे डेढ़ साल का पुत्र हैं, मेरे ससुराल वालों ने मुझे मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया जिसे लेकर मैंने प्रकरण दर्ज कराया जो न्यायालय में ट्रायल है। सुमित मीणा ने मुझे अलग मकान लेकर रखा है लेकिन उसके माता-पिता के बहकावे में आकर मुझे छोड़ दिया अब मेरे पुत्र को व मुझे रखने से मना कर रहा है हमेशा विश्वास दिलाता रहा कि तुझे साथ रखूंगा सम्मान दिलाऊंगा लेकिन अपने घर नहीं ले जा रहा जब मैं अपने ससुराल जाती हूं तो उसके परिवार वाले बुरी तरह से मारपीट कर मुझे भगा देते हैं, कुछ दिन पहले भी मुझे घर पर बुलाकर बातचीत के बहाने मेरे साथ गंभीर मारपीट की मैंने इस संबंध में जिला पुलिस अधीक्षक को भी लिखित में सूचना थी लेकिन राजनीतिक प्रभावशाली होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं हुई।
प्रार्थी काजल ने बताया कि 13 मई को मैं अपने पति के घर के बाहर पहुंची उसके पिता भंवरलाल व उसके परिवार वाले पहले से ही सुनियोजित तरीके से योजना बनाकर मुझे घर के बाहर पेड़ था उससे मुझे बांध दिया व मेरे साथ ससुर भंवर लाल रावत ने बुरी तरह से मारपीट की एवं गाली-गलौच करते हुए धक्का देकर भगा दिया और कहा कि मेरे बेटे को छोड़कर चली जा मैं मेरे बेटे का किसी अन्य समाज की लड़की से विवाह करवाउंगा। मेरे साथ मेरे पति सुमित मीणा, ससुर भंवरलाल, सासु सुमित्रा देवी एवं अमित मीणा ने गंभीर रूप से मारपीट की जिससे मेरी दाईं आंख में से खून निकलने लगे आज भी आंख में खून जमा हुआ है और मुझे बार-बार जान से मारने की धमकी दे रहे हैं मैं बहुत परेशान हो गई। उन्होंने ज्ञापन में बताया कि एक अन्य महिला द्वारा भी मुझे मेरे पति को तलाक देने और धमकाने का फोन आया इसकी रिकॉर्डिंग सहित शिकायत संबंधित थाने में दर्ज करवाई गई हैं। बार-बार संबंधित थाने में रिपोर्ट देने के बावजूद भी सुमित मीणा वर्तमान में सत्ता पक्ष कांग्रेस पार्षद होने से उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही जिससे इनके हौसले बुलंद हो रहे हैं उनके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जावे और सुमित मीणा को पाबंद किया जाए कि मुझे अपने साथ पुत्र सहित घर में रखे ऐसा नहीं हुआ तो मुझे मजबूरन मेरे पुत्र के साथ आत्मदाह करना पड़ेगा।

Don`t copy text!