मोदी सरकार के कुशल वित्तीय प्रबंधन से देश में वस्तुओं के स्वदेशी निर्माण व उत्पादन पर विशेष कार्य हो रहा, निर्यात बढ़ने से आर्थिक संपन्नता बढ़ रहीः सी.पी.जोशी

 

वीरधरा न्यूज़।चित्तौड़गढ़@डेस्क।
जयपुर।भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष एवं सांसद सी.पी.जोशी ने प्रदेश मुख्यालय में प्रेस वार्ता को संबोधित कर बताया कि विशेष रूप से भारत सकार की उपलब्धियां और वित्तीय समावेश इस विषय को लेकर आप लोगों के बीचच में उपस्थित हुआ हूँ, भारत सरकार की पिछले 8 वर्षो में कुशल रणनीति व वित्तीय प्रबंधन के कारण कई ऐसे एतिहासिक काम हुए जो देश कई वर्षो से इंतजार कर रहा है।
नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में ऐतिहासिक निर्णय हुये हैं, जिसके कारण एक देश एक कर इस योजना को लेकर जो प्रधामंत्री जी इच्छाशक्ति थी, कई प्रकार के करों में भिन्नता थी पुरे देशभर में उनको एकदेश-एककर में पिरोने का काम किया।
आप और हम सब देखें तो पिछले कई वर्षो में 2022-23 जो हमारा बजट था लगभग 39लाख करोड़ पहुंच गया, जबकि यही बजट हम 13-14 का उठाकर देखें, पिछली सरकार का बजट उठाकर देखें जो लगभग 16.65 लाख करोड़ था लगभग ढाई-तीन बजट 13 से लेकर 14 से 22-23 में इस सरकार ने बढ़ाने का काम किया और इतना ही नही केन्द्र की जितनी स्कीम है, चाहे हेल्थ को लेकर हो चाहे टूरिज्म को लेकर हों, चाहे एग्रीकल्चर को लेकर हो चाहें रेलवे को लेकर हो हर सेक्टर में ढ़ाई से लेकर तीन गुणा, किसी-किसी में दोगुना और 4 गुन तक बजट बढ़ा है, हम लोग देखें तो चाहे बात सब्सिडी की हो चाहे नरेगा में हो, नरेगा को जिसको देश में आम आदमी के रोजगार का एक महत्वपूर्ण साधन माना जाता है, उसमें 33 हजार करोड़ पहले 13-14 में बजट हुआ करता था,जो भी खर्च नहीं हो पाता था 33 हजार करोड़ होते हुऐ भी इस सरकार में पूरा का पूरा बजट कुशल प्रबंधन के कारण खर्च भी होता है और लोगों को रोजगार भी मिलता है। और आज 22-23 में बजट बढकर 73 हजार करोड़ हुआ है।
ऐसे ही एजुकेशन में हर सेक्टर में चाहे प्रधानमंत्री सड़क योजना हो चाहे हमारा हेल्थ और यूथ अफेयर्स हो हर विभाग में लगभग बजट ढ़ाई से तीन गुना बजट बढा है।
डिफेंस में भी भारत सरकार ने अभी तक पहले हम लोग आजादी के बाद से हम लोग विदेश पर निर्भर रहते आये हैं, यह पहला अवसर है। प्रधानमंत्री जी ने एक निर्णय किया कि हम हम उत्पादों के स्वदेशी निर्माण पर विशेष कार्य करेंगे, जो किया भी जा रहा है।
देश में हमने कई ऐसे कोरिडोर बनाए हैं जिनके माध्यम से भारत सरकार स्वदेशी वस्तुओं के निर्यात पर विशेष कार्य कर रही है, दुनिया को हम रक्षा उत्पादकों का निर्यात भी करेंगे।
इस प्रकार की व्यस्था देश में पहली बार देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में शुरूआत हुई है। पहले टैक्स में ढ़ाई लाख छुट हुआ करती थी और इस सरकार ने 5 लाख तक की छुट दी और 13-14 में हम सब लोग देखते हैं जो टैक्सपेरर हैं वो लगभग 3 करोड़ के आस-पास थे रिटर्न भरते थे, जो लगभग 1 करोड़ के आस-पास टैक्स भरते थे और लगभग आज उसका तीन गुणा 9 करोड़ से ज्यादा लोग टैक्स रिटर्न भरते हैं और 4 करोड़ से ज्यादा लोग टैक्स देते हैं, यह एक बहुत बड़ा बदलाव इस देश में आया है कि लोग इस देश के निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका भी निभा रहे हैं और सरकार उनके पैसों को एक-एक पैसों का देश के आधारभूत संरचना में खर्च भी कर रही है।
एक या अनेक योजनाओं के माध्यम से देश में आधारभूत संरचना का निर्माण भी हो रहा है। और देश की अर्थव्यवस्था भी दुनिया की तेज बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था में भी साथ देते हुए आ रहे हैं, कोरोना महामारी में भी हम देखें तो और उसके बाद रूस और युक्रेन के युद्व के कारण हम लोग देखें तो कई देशों की अर्थव्यवस्था गड़बड़ा गई थी उसके बाद भी भारत की 9.1 फीसदी रहने का अनुमान लगाया जा रहा है। यह अपने आप में बहुत बड़ा उदाहरण मान सकते है।
आज हमारा फॉरेंसिक करेंसी जिसको हम लोग कहते थे की कोई जमाना था की हिन्दुस्तान को फॉरेंन करेंसी के अभाव में भारत को सोना गिरवी रखना पड़ा था, लेकिन 2014 में ही 304 मिलियन डॉलर था और 600 से ज्यादा मिलियन डॉलर से ज्यादा विदेशी मुद्रा का भण्डार हिन्दूस्तान के पास है, प्रधानमंत्री आवास योजना जिसमें कोई जमाना था जिसमें 40 से 45 हजार रूपये में मकान बनाने के लिए सरकार देती थी लेकिन अब यह पहला असवर जब देश के प्रधानमंत्री ने कहा कि 2022 तक हर व्यक्ति को हर गरीब को 2 करोड़ मकान आवास का टारगेट दिया था। और अभी इस बजट में लगभग 50 हजार करोड़ का बजट का प्रावधान किया है 80 लाख घरों का निर्माण हो इस दिशा में काम बहुत तेजी से देशभर में चल रहा है। हम लोग कई-कई गांवों में एग्जामपल उठाकर देखें तो टारगेट 5-4 मकान आवास के आते थे। और कई ऐसी पंचायते भी हैं जहां 300 से 400 मकान बड़ी-बड़ी कॉलोनी गरीब लोगो की एक साथ, अब वो गृह प्रवेश करते हैं तो आज लगता है कि गरीब को रहने के लिए छत मिली है।
देश में बहुत बड़ा चेंजेज आया है, जब लोगो ने कहा है कि आम आदमी भी क्या बैंक में खाता खुलवा सकता है, कौन उसकी गारन्टी देगा, लेकिन देश के प्रधानमंत्री ने कहा कि हर व्यक्ति की कोई गारंटी देगा तो वह नरेन्द्र मोदी देगा।
पहले लोगों को बैंक बहुत जाना पड़ता था, यह पहला अवसर है जब देश का बैंकिंग सेक्टर और बैंक के लोग गांव गये और गांव के लोगो को बैंक से जोड़ा और आज हम सब लोगों ने देखा है कि अगर आज बैंक नही होते तो प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना में जगह जगह हर गरीब मां के खाते में जब प्रधानमंत्री ने पैसा डाला, बुजुर्ग और वीरांगना व विधवा माता के खाते में पैसा डाला, उजज्वला कनेक्शन में उनको सब्सिडी डाली तो दिल्ली से एक बटन दबाया, जब सारे सरकारी ऑफिस बंद थे, यह जनधन खाता था जिससे लोगो के खाते में पैसा सीधा पहुंचा,तब बहुत बड़ी राहत देश की जनता ने देखी हम लोग प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना, प्रधानमंत्री बीमा योजना दो ऐसी योजनाएं, जो गरीब सोच नहीं सकता की मेरा 2 लाख रूपये का बीमा मात्र 12 रूपये में हो सकता है और हम देखें कि जन-धन के खाते जो हैं जिसमें 2 लाख तक बीमा योजना का लाभ भी मिलता है, आयुष्मान भारत, आयुष्मान भारत येजना के माध्यम से कैसे उसका स्वास्थय ठीक हो सके, 18 तारीख से पूरे देशभर में भारत सरकार की योजनाओं पर मुख्यमंत्री अपनी फोटो लगा देते हैं स्टेट लेवल पर, लेकिन देश के यशस्वी प्रधानमंत्री ने 18 तारीख से पूरे देशभर में और स्टेट राजस्थान में भी स्वास्थ्य मेला चालू हो रहा है, उसका सारा पैसा भारत सरकार ने आयुष्मान भारत, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन हमारा हम लोग एक नेशनल हेल्प मिशन ये सारी योजना, इन्द्रधनुष योजना ये सारी योजना भारत सरकार की हैं, लेकिन इसे बावजूद भी चाहे प्रधानमंत्री मातृ वंदन योजना ,प्रधानमंत्री सुरक्षा योजना का लाभ भी मिल रहा है, उजज्वला योजना का भी टारगेट बढ़ाया है कि जो बच गया है उनको भी इसमें लाभ दिया जायें, प्रधानमंत्री जन-धन योजना, दुनिया की सबसे बड़ी राशन देने की योजना प्रधानमंत्री ने शुरू किया, जिसमें देश के 80 करोड लोगों को निशुल्क अनाज उपलब्ध कराया जा रहा है।

Don`t copy text!