ट्रेलर ओर बस में भयंकर भिड़न्त, कॉन्स्टेबल भर्ती परीक्षा देने जा रहे अभ्यर्थी समेत 16 घायल एक कि मौत

अजमेर

जिले के पाटन के पास बस और ट्रेलर में शनिवार सुबह भिड़ंत हो गई। हादसे में कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में देने जोधपुर से जैसलमेर से जयपुर जा रहे अभ्यर्थी समेत सोलह लोग घायल हो गए, जबकि एक की मौत हो गई। घायलों को किशनगढ़ के राजकीय यज्ञ नारायण अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सूचना मिलने पर अजमेर एसपी कुंवर राष्ट्र दीप भी मौके पर पहुंचे। एसपी ने अस्पताल पहुंचकर घायलों से मुलाकात की।थाना प्रभारी मंजू मुलेवा ने बताया कि मृतक का नाम जोधपुर सूरसागर का रहने वाला छवर सिंह है। जबकि कल्याणपुर बाड़मेर निवासी रमेश जाट, बाड़मेर निवासी दिनेश खींवसर, नागौर निवासी शेरा राम, खीमसर नागौर निवासी महेंद्र जाट, पाली निवासी देवाराम सीरवी, जैसलमेर निवासी सुमेर सिंह राजपूत, मनोहरपुर जयपुर निवासी दीपक भादर, विराटनगर जयपुर निवासी जितेंद्र सूतक, जोधपुर निवासी पुखराज विश्नोई, पीपाड़ सिटी निवासी बलवीर जाट, जयपुर निवासी रोहित पाडिया, चंदलाई निवासी रामजीलाल, जालौर निवासी निंबाराम बिश्नोई, बाड़मेर निवासी बृजेश कुमार विश्नोई आदि घायल हो गए।

कईंयों के सपनों पर फिरा पानी, कईंयों को मिला दर्द

जमेर जिले के पाटन के पास बस और ट्रेलर में शनिवार सुबह हुई भिड़ंत ने पुलिस की नौकरी पाने के लिए परीक्षा देने जा रहे कईं अभ्यर्थियों के सपनों पर पानी फेर दिया है। मामूली जख्मी हुए अभ्यर्थी तो जैसे तैसे कर अन्य किसी साधन से अपने परीक्षा केन्द्र पर पहुंच गए लेकिन अस्पताल में भर्ती व गम्भीर घायल हुए कईं अभ्यर्थी वंचित रह गए है। ऐसे में न केवल उनके सपनों पर पानी फिर गया बल्कि उनकी अब तक की गई मेहनत भी बेकार हो गई है। साथ ही शारीरिक कष्टों का भी सामना करना पड रहा है। लेकिन उनको इसी बात का संतोष है कि उनकी जान पर नहीं बनी। इनमें कुछ अन्य और कुछ वे अभ्यर्थी भी शामिल है, जो परीक्षा देकर लौट रहे थे।

मेहनत बेकार, क्या करें :

 चौपासनी, हाउसिंग बोर्ड जोधपुर निवासी पुखराज ने बताया कि उसका सीकर रोड जयपुर पर परीक्षा केन्द्र था और जोधपुर से रात को बस में बैठा। बस टकरा गई जिससे उसको चौटे आई। प्राथमिक उपचार किशनगढ में कराया। अब वापस जोधपुर लौट रहा हूं। बहुत मेहनत की थी, लेकिन अब परीक्षा भी नहीं दे सकता। पैर में चोट है और छाती में दर्द है। पहले अपना इलाज जरूरी है, क्या कर सकते है।

दर्द है, लेकिन परीक्षा दूंगा :

 बाडमेर निवासी दिनेश सारण ने बताया दोपहर को तीन बजे एक्जाम जयपुर में एक्जाम है। बस हादसे के बाद जैसे तैसे साधन पकडकर जयपुर पहुंचा। परीक्षा तो दे ही लूंगा लेकिन हादसे के बाद शरीर में दर्द है और परीक्षा देकर फिर एक बार जांच करा देंगे, ताकि भविष्य में कोई तकलीफ नहीं हो।

परीक्षा दे दी, लौटने पर हुआ हादसा :

 चाकसू, चंदलाई जयपुर निवासी रामजीलाल ने बताया कि शुक्रवार को कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में जोधपुर में शामिल हुआ और जब रात को जोधपुर से वापस लौट रहे थे तो शनिवार सुबह यह हादसा हो गया। चोट लगी है और दर्द भी है, लेकिन संतोष है कि हादसा परीक्षा देने के बाद हुआ और मेहनत बेकार नहीं गई।

Don`t copy text!