जिला चिकित्सालय में निरीक्षण के दौरान संभागीय आयुक्त से मरीजों ने की शिकायत, पीएमओ को नोटिस जारी

वीरधरा न्यूज़। जयपुर @ श्री राहुल भारद्वाज।
जयपुर । प्रदेश के जयपुर संभाग के संभागीय आयुक्त डॉ. समित शर्मा के नेतृत्व मे संभाग के विभिन्न सरकारी कार्यालयों का निरीक्षण किया गया । इस दौरान बुधवार प्रातः संभागीय कार्यालय से 5 अलग अलग टीमें गठित कर पांच अलग-अलग जिलों में पर्यवेक्षण कार्यक्रम हेतु भेजी गई। एक टीम में संभागीय आयुक्त डॉ समित शर्मा और अतिरिक्त संभागीय आयुक्त नरेंद्र गुप्ता सम्मिलित थे जिसमें प्रातः ग्राम मोहनपुरा पंचायत समिति बस्सी जयपुर ग्रामीण में नरेगा कार्यों का निरीक्षण किया जो संतोषजनक पाया गया ।
इसके बाद इस टीम ने प्रातः 9:15 बजे दौसा जिला चिकित्सालय का निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान चिकित्सालय की साफ सफाई आदि व्यवस्थाओं में कमी व ओपीडी को खाली देखकर नाराजगी प्रकट की और कार्यवाहक पीएमओ को व्यवस्थाएं दुरुस्त करने के निर्देश दिए ।
दौसा जिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान एक अटेंडेंट श्री गेंदा लाल बौरवा ने आयुक्त को शिकायत की कि उनकी बहू को अस्पताल में भर्ती करवाया गया और वहां पर सोनोग्राफी भी करवाई गई फिर भी उन्हें वहां के एक डॉक्टर राजेश गुर्जर द्वारा घर बुलाया गया और ₹100 फीस ली गई साथ में सात नंबर दुकान से डिजिटल सोनोग्राफी करवाई गई जिसके ₹2000 लगे और हजार रुपए की दवाइयां भी बाहर से लिखी गई । एक अन्य महिला कविता राजपूत ने शिकायत की कि उनके परिजन की डिलीवरी रात 1:00 बजे हुई और लेबर रूम के बाहर स्टाफ ने ₹500 मिठाई के मांगे जो उन्होंने दिए देने पड़े इसी प्रकार पोस्ट डिलीवरी वार्ड में भी अनेक परिजनों ने स्टाफ द्वारा डिलीवरी के पैसे लेने की बात कही । एक और शिकायतकर्ता ने उनकी पेशेंट जिसे राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया था उसे डॉ राजेश गुर्जर ने अपने निजी अस्पताल रूपम अस्पताल भेजा और फीस ली गई और वहां पर उसका समुचित सार संभाल नहीं होने से उसकी तबीयत बिगड़ गई और उसे वापस से सरकारी अस्पताल भेजा जहां पर भी डॉक्टर गुर्जर ने उन्हें सही से नहीं संभाला और जिसके कारण बाद मे प्रसूता की मृत्यु हो गई इस प्रकार की गंभीर शिकायतें प्राप्त होने पर संभागीय आयुक्त ने अपने साथ आई टीम और जिला कलेक्टर को 24 घंटे के अंदर जांच कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए। अस्पताल में इस प्रकार की अनियमितताएं और प्रसूता उसे स्टाफ द्वारा पैसे लेना और डॉक्टरों द्वारा बाहर से अनावश्यक जांच और दवाइयां मंगवाना और अपने निजी अस्पताल में भेजना जैसी गंभीर अनियमितताओं पर जिला कलेक्टर को पीएमओ डॉ. सी एल मीणा को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए वहां पर कार्यरत गायनी के इंचार्ज डॉ राजेश गुर्जर की शिकायतों की गहन जांच करने के निर्देश दिए है ।