शिक्षा विभाग के तुगलकी आदेश (स्माइल -2) का विरोध, तीन लाख शिक्षकों को संक्रमित होने का है डर

वीरधरा न्यूज़। चित्तौड़गढ़@डेस्क

राजस्थान शिक्षक संघ( राष्ट्रीय )के जिला अध्यक्ष तेजपाल सिंह शक्तावत ने बताया कि शिक्षा विभाग द्वारा स्माइल 2 कार्यक्रम के तहत विद्यार्थियों को व्हाट्सएप के माध्यम से गृह कार्य दिया जाने व व्हाट्सएप पर ही मंगवा कर उसका प्रिंट निकलवा कर उसके मूल्यांकन के बाद पोर्टफोलियो में लगवाने के आदेश जारी किए गए इसके अतिरिक्त जिन बालको के पास स्मार्टफोन की सुविधा नहीं है उन विद्यार्थियों के घर-घर जाकर गृह कार्य देना व पुनः घर-घर जाकर उक्त गृह कार्य को संकलित कर उनके मूल्यांकन के बाद प्रत्येक बालक के पोर्टफोलियो में लगाने के तुगलकी आदेश हाल ही मे पारित किया हैं ।
इस पर संगठन के प्रदेश महामंत्री अरविंद व्यास ने बताया कि मुख्यमंत्री व शिक्षा मंत्री को ज्ञापन भेज लिखा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकांश विद्यार्थियों के माता-पिता के पास स्मार्ट फोन की सुविधा नहीं है ऐसे में व्हाट्सएप पर गृह कार्य देना संभव नहीं हो पा रहा तथा नेटवर्क की समस्या के कारण शिक्षक भी ऑनलाइन प्रशिक्षण पूरा नहीं कर पा रहे हैं तथा गृह कार्य देने में भी समस्या बनी रहती है इसके अलावा घरों में आना-जाना बढ़ जाने से शिक्षकों, बालको व उनके परिवार में कोरोना संक्रमण फैलने की प्रबल संभावना बन गई। ऐसे में घर-घर जाकर गृह कार्य देने व संकलन के आदेश पुनर्विचारणीय है ।
एक ओर सरकार तीव्र गति से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये नित्य नए उपाय व प्रयास कर रही है दूसरी ओर तीन लाख शिक्षकों को बालकों के घरों में भेजने का यह तुगलकी आदेश जारी कर दिया जिससे शिक्षकों व बालकों में संक्रमण का डर व्याप्त है।
प्रदेश अध्यक्ष संपत सिंह ने कहा कि उक्त आदेश को निरस्त कर उसके स्थान पर विद्यार्थीयो की न्यूनतम संख्या तय कर अथवा कक्षा वार बालकों को स्कूल में बुलाकर गृह कार्य देने व उसका मूल्यांकन करने के आदेश जारी करें।
प्रदेश संगठन मंत्री प्रहलाद शर्मा ने कहा कि कोरोना विस्फोट के कारण 6 शहरी क्षेत्रों में कर्फ्यू लागू कर दिया है अन्य जिलों में धारा 144 लागू कर रखी है ।ऐसे में शिक्षकों को घर- घर भेज कोरोना फेलाने में यह आदेश ममदगार होता दिख रहा है ।
माध्यमिक सचिव रमेश चन्द्र पुष्करना, विभाग संगठन मंत्री हीरालाल लोहार, जिलाध्यक्ष श्री शक्तावत, जिला सभाध्यक्ष सैयद मुकर्रम अली , जिला वरिष्ठ उपाध्यक्ष रमेश चन्द्र पुरोहित, जिला महिला मंत्री पवन शेखावत, कोषाध्यक्ष नर्बदा शंकर पुष्करना, अतिरिक्त जिला मंत्री भवानी शंकर सेन ,जिला संगठन मंत्री राजेंद्र कुमार मिश्रा व महिला संगठन मंत्री सहित जिला व उपशाखा कार्यकारिणी के पदाधिकारियों ने इस तुगलकी फरमान का एक स्वर में पुरजोर विरोध करते हुए सरकार से वापस लेने की मांग की।

Don`t copy text!