प्रदेश में 70.48 % अभ्यर्थियों ने कांस्टेबल बनने के लिए दी परीक्षा; जयपुर में नकलची गैंग के 3 युवक गिरफ्तार

जयपुर

पूरे प्रदेश में कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के लिए 518 परीक्षा केंद्रों के 13 हजार 500 कमरों में आयोजित की गई थी। इन सभी परीक्षा केंद्रों पर कमरों में जैमर लगाए गए थे। इसमें एग्जाम सेंटर पर सख्त चैकिंग की गई।
प्रदेश में 6 से 8 नवंबर तक चली परीक्षा, पुलिस की मुस्तैदी से टिक नहीं सके मुन्नाभाई
यातायात पुलिस की चुस्ती से लाखों अभ्यर्थियों के शहर में आने पर भी जाम नहीं लगा
आमेर में नकल कर रहा युवक और दो सहयोगी गिरफ्तार, दो लाख रुपए में हुआ था सौदा

प्रदेश में तीन दिन चली राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती लिखित परीक्षा रविवार को शांतिपूर्वक तरीके से संपन्न हो गई। यह परीक्षा 6 से 8 नवंबर तक रोजाना दो पारियों में करवाई गई थी। इस परीक्षा में लगभग 70.48% अभ्यर्थी उपस्थित रहे। इस बीच अंतिम दिन जयपुर के आमेर इलाके में पुलिस ने एक युवक को नकल करते हुए और तीन जनों को नकल करवाने के आरोप में गिरफ्त में लिया। उनसे पूछताछ की जा रही है।

प्रदेश के DGP ML लाठर ने बताया कि कांस्टेबल के कुल 5 हजार 438 पदों के लिए आयोजित की गई इस भर्ती परीक्षा के लिए 17 लाख 61 हजार 760 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया एवं 12 लाख 41 हजार 609 अभ्यर्थियों ने भाग लिया। लिखित परीक्षा प्रदेश के 32 जिलों के 518 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित गई। कोविड-19 में ध्यान में रखते हुए अलग से बनाए गए आइसोलेशन कमरों में 19 कोविड पॉजिटिव एवं 14 कोविड लक्षण वाले अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी।

परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे अभ्यर्थियों की चैकिंग करती पुलिस
परीक्षा केंद्रों पर पहुंचे अभ्यर्थियों की चैकिंग करती पुलिस

रविवार को तीसरे दिन 71 % रही उपस्थिति

अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस भर्ती एवं प्रशिक्षण गोविंद गुप्ता ने बताया कि भर्ती परीक्षा कुल 6 पारियों में आयोजित की जा रही है और प्रत्येक पारी में लगभग 3 लाख अभ्यर्थियों की परीक्षा की व्यवस्था की गई। उन्होंने बताया कि तीसरे दिन दो पारियों में लगभग 71% अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी। उन्होंने बताया कि पहली पारी में 72.65% एवं द्वितीय पारी में 71. 05% अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी।

परीक्षा केंद्रों पर लगाए गए थे जैमर

ADG गोविंद गुप्ता ने बताया कि पूरे प्रदेश में यह परीक्षा 518 परीक्षा केंद्रों के 13 हजार 500 कमरों में आयोजित की गई थी। इन सभी परीक्षा केंद्रों पर कमरों में जैमर लगाए गए थे। इससे इंटरनेट बंद करने की आवश्यकता नहीं पड़ी। साथ ही, शहरवासियों को भी परेशानी नहीं उठानी पड़ी।

लाखों अभ्यर्थियों के आवेदन वाली इस साल की सबसे बड़ी परीक्षा थी, डीजीपी ने दी बधाई

आपको बता दें कि पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा इस साल की सबसे बड़ी परीक्षा थी। इसमें 17 लाख से ज्यादा आवेदन आए थे। कोरोना काल में यह पुलिस विभाग के अफसरों व कार्मिकों की परीक्षा भी थी।जिसमें नकल को रोकना, यातायात संबंधी परेशानियों का ध्यान रखना और भी कई बातें शामिल थी। जिसमें जयपुर और प्रदेश की पुलिस ने मुस्तैदी दिखाई। इससे परीक्षा शांतिपूर्वक संपन्न हो गई।महानिदेशक पुलिस ML लाठर ने रविवार को पुलिस के सभी कर्मचारियों व अधिकारियों को कांस्टेबल लिखित भर्ती परीक्षा के निर्विघ्न एवं शांतिपूर्वक आयोजन के लिए बधाई दी एवं आभार व्यक्त किया।

आमेर में एक परीक्षा केंद्र पर नकल करने वाला व 3 सहयोगी पकड़े, 2 लाख में सौदा तय हुआ था

परीक्षा के अंतिम दिन आमेर थाना पुलिस ने कूकस स्थित एक परीक्षा केंद्र में नकल कर रहे दौसा निवासी अभ्यर्थी संतराम मीणा और उसे नकल करने में सहयोग कर रहे नटाटा, आमेर निवासी किशन मीणा तथा छीतरमल मीणा को गिरफ्तार कर लिया। इसमें एक आरोपी अभिषेक मीणा फरार है। इस गैंग में किशन लाल चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है, छीतरमल और रविंद्र कम्प्यूटर ऑपरेटर है।

अभिषेक मीणा ने ही नकल के लिए आंसर लिखा हुआ एक कागज किशनलाल के मार्फत परीक्षार्थी संतराम तक पहुंचाया था। नकल करवाने के लिए सौदा दो लाख रुपए में तय हुआ था। यह सौदा बहरोड़ के विकास गुर्जर नाम के व्यक्ति से तय हुआ था​​​​। पुलिस मामले में तफ्तीश कर गैंग में अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है।​​​

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Don`t copy text!