जमीदार ने मात्र 5000 के लिए अपने ही बंधुआ मजदूर को केरोसिन डाल जिंदा जलाया

भोपाल। गुना

मध्य प्रदेश के गुना जिले की बमोरी विधानसभा क्षेत्र में जमीदार ने आदिवासियों की संरक्षित जनजाति सहरिया जनजाति के एक युवक को इसलिए जिंदा जला दिया क्योंकि उसने 3 साल पहले रुपये 5000 का कर्जा लिया था और अब तक नहीं चुकाया था। ब्याज के बदले सहरिया आदिवासी युवक 3 साल से जमीदार के यहां बंधुआ मजदूरी कर रहा था। उल्लेखनीय है कि बमोरी विधानसभा क्षेत्र शिवराज सिंह सरकार के पंचायत मंत्री श्री महेंद्र सिंह सिसोदिया का क्षेत्र है। विधानसभा उपचुनाव में महेंद्र सिंह सिसोदिया इसी क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी हैं।

विजय सहरिया को मंदिर बुलाकर जिंदा जला दिया

26 साल का विजय सहरिया पुत्र कल्लू सहरिया छोटी उकावद खुर्द गांव में मां गीताबाई, छोटे भाई ओमप्रकाश, पत्नी रामसुखी और दो बच्चों के साथ रहता था। वह मजदूरी कर परिवार का पेट पालता था। गांव में ही रहने वाला राधेश्याम पुत्र चुन्नीलाल लोधा बड़ा किसान और रसूखदार है। पुलिस के मुताबिक शुक्रवार 6 नवंबर 2020 रात करीब 9 बजे उसने घर से विजय सहरिया को कृष्ण मंदिर के पास बुलवाया। यहां उससे पैसे मांगे। इसी बात पर दोनों में विवाद हो गया। गुस्साए राधेश्याम लोधा ने केरोसिन से भरी केन विजय सहरिया पर उड़ेल दी। इसके बाद माचिस की तीली जलाकर आग लगा दी। वह गालियां देते हुए भाग गया।

मृत्यु पूर्व बयान में राधेश्याम लोधा का नाम
ग्रामीणों के मुताबिक घटना के वक्त सब लोग सोए हुए थे। सूचना पर घरवाले पहुंचे, तो किसी तरह आग बुझाई। तब तक वह बुरी तरह जल चुका था। उसे तुरंत बमौरी के उपस्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से गुना जिला अस्पताल रैफर कर दिया। जिला अस्पताल में देर रात करीब 1 बजे मौत हो गई। मौके पर पहुंची पुलिस को दिए बयान में विजय सहरिया ने राधेश्याम लोधा का नाम लिया है। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

5000 रुपये कर्ज के बदले 3 साल तक बंधुआ मजदूरी कराई
ग्रामीणों के मुताबिक विजय सहरिया ने तीन साल पहले राधेश्याम लोधा से पांच हजार रुपए उधार लिए थे। इसके बदले में तीन साल से लगातार उसके खेत में मजदूरी कर रहा था। खास बात है कि मजदूरी के बदले उसे पैसा भी नहीं दिया जा रहा था। ग्रामीणों का कहना है कि उससे जबर्दस्ती काम करवाया जा रहा था। जब भी विजय सहरिया पैसे मांगता, तो उसे मार-पीटकर भगा दिया जाता था। इसके बाद भी राधेश्याम लोधा उससे पैसे मांग रहा था।
मौत के बाद 850000 रुपये की आर्थिक सहायता मंजूर
एसपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि मामले में अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत हत्या का मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी राधेश्याम लोड़ा को गिरफ्तार कर लिया गया है। फिलहाल प्रशासन की ओर से तात्कालिक सहायता के तौर पर 20 हजार रुपए दिए गए हैं। इसके अलावा पीड़ित परिवार को साढ़े आठ लाख रुपए की सहायता प्रदान की जाएगी। मृतक के बच्चों की शिक्षा का इंतजाम भी किया जाएगा।
पंचायत मंत्री के क्षेत्र में कर्ज के बदले बंधुआ मजदूरी सदियों पुरानी परंपरा
बता दें कि बमौरी क्षेत्र पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया का विधानसभा क्षेत्र है। इस बार हुए उपचुनाव में भी वे उम्मीदवार हैं। खास है कि बमौरी क्षेत्र में सहरिया जनजाति के कई आदिवासी रहते हैं, जो मजदूरी कर अपना भरण-पोषण करते हैं। अगर कोई मजदूर यहां उधार लेता है, तो उसे बदले में उसके यहां काम करना पड़ता है

Don`t copy text!